Home

Salman, Sonia, Bhagva and Dixcy Scott

1 Comment

Have you ever seen a monastery where monks wear ‘bhagva’ color?

I never saw one ever.. barring a few.. I saw the following images of monks and monasteries on quick google image search.

Hinduism embraced the bhagva color because it has been related with spirituality and meditation. Bhagva color is helpful for a meditator to reach samadhi quickly and not lose his aura so gained. The color attracts most of positivity and most of the nature’s positive vibrations from the whole spectrum. The aura is purified fastest whilst wearing this color. You can very well relate to this clothing difference when you wear a casual or formal / bright or dull clothing. The moods and energy varies as per color of clothes you wear. There was this brief scientific concept amongst our rishis and munis.

Our culture is our soul and hence the country’s Hindus could not be converted or be eliminated even after long Muslim and British rule. Today our culture is at peak of being attacked which is controlled by Vatican and is led by stooges like Sonia and Rahul Gandhi (Antonio Maino and Raul Vinci).

Let’s shift our focus towards this for a moment..

Recently released Salman’s Dixcy Scott Advertisement is an example of subliminal messaging where he is bashing monks in bhagva color.

As you may notice.. monks rarely wear Bhagva color. ‘Bhagva’ is bad and white is good.. religion is bad & Bollywood is good.. that is the subliminal messaging. I believe Salman has acted in this advertisement unknowingly, but not the advertising agency.

Try understanding subliminal messaging here:

The advertisement is handled by Madison media.

Madison Media Group, which currently handles the media planning and buying mandate for several blue chip clients including Airtel, Godrej, Cadbury/Kraft, ITC, General Motors, Marico, McDonald’s, TVS, Britannia, Procter & Gamble, Asian Paints, Tata Tea, Shriram Transport Finance, Levis, SpiceJet, Axis Bank, Domino’s, Bharti Axa, Max New York Life Insurance, Tata Salt, Acer, Dish TV, Imagine TV, Times Television Network and Indian Oil. The gross billing of Madison World is Rs. 30 billion (3 followed by 10 zeroes).

I pity on these people who have nothing better to do at Facebook and liking Dixcy Scott page.

Let’s see from our day today lives where Hinduism is under attack:

  • Christian cross on coins
A photo from facebook communities

  • The false propaganda of ‘Hindu terrorism’ or ‘Saffron Terror’ peaks in Congress raj.
  • Rahul Gandhi saying in US that Hindu extremists are bigger threat to India. One India, TOI
  • Regularly targeting organisations like RSS without proofs. As if being associated with RSS and nationalism is crime
  • Andhra Pradesh Congress government headed by late Y Samuel Rajsekhar Reddy (a Christian) had brought Christian institutions into the decision making body of Tirumala Tirupathi Devasthanam (TTD) and its institutions. JRG Wealth Management, a Christian organisation was employed for ‘Prasadam’ materials for use in Tirupati temple. So, beef eaters are/were handling ‘prasadam’ materials of the Tirupathi Temple. And in 2006, the centuries old, 1,000 pillars Mandapam in Tirumala complex is reported to have been demolished by the Congress Government led by late Y. Samuel R Reddy
  • Most religious shrines like Puri, Tirupati, Guruvayoor, Kashi, Mathura, Ayodhya, Badrinath, Kedarnath, Vaishno Devi, Mumbai (Shree Siddhi Vinayak Temple), Shirdi, Amarnath, Srisailam, Madurai and Rameshwaram, Kashi Vishwanath Temple are now under government control and now being run like corporates where profits are reaped and sent to corrupt Government of India. (Read Secular loot and plunder of Hindu temples, Government control of temples is destroying Hinduism,

All this causes lowered self-esteem in Hindus psychologically, inferiority complex, conversions, race towards western culture and fake materialism. People in some time will feel ashamed in being Hindu if so continues for long. Please know that I am not communal or against Christians but against the treatment of Hindus

Wear your critical thinking caps now and analyze.

 

Others:

Advertisements

Boycott Government Taxes

Leave a comment

Homosexuality and Bharat

Leave a comment

पाश्चात्य संस्कृति के अनुसार सेक्स का आनंद ही चरम आनंद है.. भारतीय संस्कृति का मूल आधार हमेशा ईश्वर, ध्यान (Meditation) और मोक्ष प्राप्ति रहे..

ध्यान की इन ऊँचाइयों का ही परिणाम था की हम पुनर्जनम को समझ पाए.

इस पावन  धरती पर ही राम, कृष्ण, बुध, महावीर, मीरा, कबीर, ओशो, परमहंस, विवेकानंद जैसी महान आत्माएं यहाँ आई और इसका गौरव बढ़ाया.

परिवार का मूल्य भी पाश्चात्य संस्कृति नहीं समझा पायी वह उसका आधार भी बहुत ही कमज़ोर रहा.. हमने कभी अपने बच्चे पैदा करने के बाद सड़कों पर न ही छोड़े और न ही हमें कभी कॉन्वेंट सोसाइटी की स्थापना करने की ज़रूरत पड़ी..

इसीलिए जीवन को चार भागों में भी बांटा गया.. ब्रहमचर्य.. गृहस्थ.. वानप्रस्थ.. वह संन्यास ..

गीत नृत्य नाटक जीवन में साधन प्रभु की और जाने के थे.. न की सेक्स दर्शन के.

अब पाश्चात्य संस्कृति के अनुसार उन्हें जीवन एक बार ही मिला है… (पुनर्जनम का कोई कांसेप्ट नहीं है) और इसी जन्म में भी सब कुछ पूरा होना चाहिए..  अब मनुष्य की मानसिकता की यह कमी है की उसे हमेशा नयापन चाहिए.. अब क्यूंकि वह इश्वर, मोक्ष पुनर्जनम जैसे विषयों में नयापन नहीं ला पाते.. तो वह सेक्स में ही नयापन ढूँढ़ते हैं.. एक ही जीवन का उद्देश्य बचा.. इसीलिए दिमाग वहीँ अटक कर रह गया.. इसी निकृष्ट सोच का नतीजा था.. समलैंगिकता या homosexuality..

क्या आपने या आपके माता पिता वह उनके पूर्वजों ने कभी ऐसी व्यवस्था की इच्छा करी? नहीं क्यूंकि ऐसी कभी हमारे समाज में इसके लिए इच्छा ही नहीं रही..

हमारे देश पर हज़ारों वर्षों तक राज़ हुआ.. मगर हमारे देश में हिंदुओं की संख्या बनी रही वह सांप्रदायिक सौहार्द बड़े रूप से व्यापक रहा.. इसका मूल कारण हमारी संस्कृति थी.. सारे जगत में धर्म परिवर्तन हो गए.. पूरी दुनिया ईसाई या मुस्लमान धर्म की तरफ बढ़ी.. यहाँ भी चाहे वेटीकन द्वारा कितने ही धरम परिवर्तन हुए हों.. मगर हम बचे क्यूंकि हमारी संस्कृति में हमारी जड़ें बहुत अंदर तक रमी हुई हैं.

आज यह प्रहार मीडिया (सिनेमा प्रिंट और समाचार) के द्वारा हमारी मानसिकता पर हो रहा है.. आपको जानकारी नहीं होगी.. पर सम्पूर्ण जगत का मीडिया कुछ ही कॉर्पोरेट कंपनियों के हाथ में है.. बॉलीवुड में भी बड़े बड़े प्रोडूसर अपनी कंपनियों के सम्पूर्ण मालिक नहीं हैं वह बहुत विदेशी निवेश उनमें है जो की सारा कंटेंट तय करता है.. ‘दोस्ताना’ ‘ देसी बोय्ज़’ जैसी फिल्में उसी सोच की उपज हैं.

Section 377 जैसे घटिया कानून भी विदेशी प्रभाव में हमारे मुर्ख नेता पास करवाते हैं..

अब इसका मूल उद्देश्य एक तो हमारी संस्कृति पर प्रहार है.. और दूसरा एक बढ़ा संभावित बाजार है.. जो की इस ट्रेंड के चल निकलने पर योरोप और अमरीका के बाजार से भी बड़ा होगा. इन फ़ालतू विषयों पर बहस भी जनमानस को समय खराब लगना चाहिए.

युवा भारत का अमूल्य समय अब सेक्स बॉलीवुड और क्रिकेट में नष्ट करवाया जा रहा है.. जो की सब एक ‘मार्केट’ या बाजार के लिए ही है.

इस समझ के साथ अब चुनाव आपका है की आप अपने बच्चों को रामकृष्ण परमहंस, ओशो, बुद्ध, महावीर, पंचतंत्र की सोच का पठन कराएं या.. पाश्चात्य की नक़ल में चिकनी चमेली.. मुन्नी बाई.. शीला की जवानी.. जलेबी बाई.. दोस्ताना.. पर नचाएं..